घर में स्थापित होने वाला शिव लिंग नर्मदेश्वर शिवलिंग श्रेष्ठ-संजीव शंकर

0
79

मुजफ्फरनगर । महावीर चौक स्थित महाकाल मंदिर के सानिध्य में अर्पण वेंकट हॉल में चल रही शिव पुराण कथा के अंतर्गत कथा व्यास महामंडलेश्वर संजीव शंकर जी महाराज ने कहा कि शिवलिंग उपासना भगवान की निराकार उपासना है जब तक निराकार के प्रति पूरी श्रद्धा दृढ़ता के साथ ना बने तब तक साकार की पूजा को ही श्रेष्ठ बताया गया है,भगवान शिव के शिवालय बनाने का जितना महत्व है उससे कई गुना अधिक शिवलिंग स्थापित करने का महत्व है नर्मदेश्वर शिवलिंग कथा प्रसंग सुनाते हुए कथा व्यास ने कहा कि ग्रहस्थ जीवन में नर्मदेश्वर शिवलिंग सर्वाधिक उपयोगी है वही शिवलिंग ऐसा है जिससे स्पर्श किया हुआ प्रसाद ग्रहण किया जा सकता है अन्यथा अन्य शिव लिंग के लिए दूर से प्रसाद रखने की व्यवस्था होनी चाहिए, नर्मदा नदी से निकले हुए शिवलिंग को ही नर्मदेश्वर शिवलिंग कहते हैं, शिवलिंग की महानता इसी से लगाई जा सकती है कि शिव पुराण के अनुसार समस्त ब्रह्मांड ही एकलिंग है उससे अलग कुछ भी नहीं है, आज की कथा का मुख्य प्रसंग नारद जी का मोह और शिवालय में दीप प्रज्वलित करने से कुबेर पद प्राप्ति रहा, कथा में पं० अखिलेश मिश्रा व योगेश भगत जी ने सुंदर-सुंदर भजन प्रस्तुत किए,आज कथा में मुख्य रूप। मुख्यातिथि समाजसेवी सोमांश प्रकाश , डॉ०सुभाष चंद्र शर्मा, नगरपालिका चैयरमैन अंजू अग्रवाल, राजकीय इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य शैलेन्द्र कुमार त्यागी , पंडित उमा दत्त शर्मा, होली चाइल्ड पब्लिक स्कूल से प्रवेंद्र दहिया, राजीव गोयल, अतुल जैन, डॉ० आदेश शर्मा, डा०ऋषभ गुप्ता, सुनील गोयल , चौ०प्रवीण कुमार, श्री अखिलेश जिंदल एडवोकेट, श्री बृजेश, श्री संजीव सचदेवा, श्री हरि ओम शर्मा, श्री शिव राना श्रीमती मनीषा शर्मा, श्रीमती नीरू शर्मा, श्रीमती रीटा दहिया, श्रीमती रीटा गोयल, श्रीमती अनामिका खन्ना, श्रीमती प्रीति खन्ना, श्रीमती पूजा द्विवेदी , श्रीमती शांति शर्मा, श्रीमती रजनी राणा, श्रीमती नीरज शर्मा,‌ श्रीमती दीपा महेश्वरी, श्रीमती विनीता शर्मा, श्रीमती रीता शर्मा, अस्मिता शर्मा इत्यादि

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here