मुजफ्फरनगर में जानलेवा हुई पेपर मिलो से निकलने वाली काली राखी, पेपर मिलो और माफियाओं की अधिकारियों से सांठगांठ के चलते खुलेआम चल रहा है काली राखी का कारोबार

0
262

रहस्यमयी राखी से जले चाचा भतीजे, एक हफ्ते पहले भी जला था एक युवक

मुजफ्फरनगर। भोपा थाना क्षेत्र में गंग नहर के किनारे बरसों से दूर-दूर तक पड़ी हुई राखी जानलेवा साबित हो रही है। मंगलवार को गंग नहर के किनारे लकड़ी इक्कठी रहे दो चाचा भतीजे इस राखी की चपेट में आ गए और बुरी तरह से झुलस गए। दोनों को गंभीर हालत में सीएचसी भोपा लाया गया, जहां से उन्हें मुजफ्फरनगर जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया, जिला अस्पताल में डॉक्टरों ने दोनों को प्राथमिक उपचार देकर गंभीर हालत देखते हुए मेरठ के लिए रेफर कर दिया। अभी एक हफ्ता पहले भी इसी क्षेत्र में एक और व्यक्ति इसी राखी में फस कर बुरी तरह झुलस गया था, जिसका अभी भी उपचार चल रहा है। एक हफ्ते में तीन लोग इस राखी में झुलस कर जीवन मृत्यु से लड़ रहे हैं लेकिन कोई भी संबंधित प्रशासनिक अधिकारी सुध लेने को तैयार नही और अभी और लोगों के झुलसने के इंतजार में हैं। पिछले हफ्ते राखी मालिक पर भोपा पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर खानापूर्ति तो कर ली लेकिन इसके बाद कोई कार्यवाही नहीं की। यहां राखी के नीचे केमिकल का मामला भी सामने आ रहा है, बताया जा रहा है कि इस राखी के नीचे कोई खतरनाक केमिकल दबा हुआ है, जिसके चलते यहां बार बार हादसे हो रहे हैं। इस मामले को गंभीरता से लेने की बजाए प्रशासनिक अधिकारियों ने इस मामले को ठंडे बस्ते में डाल रखा है और हादसे पर हादसे होते जा रहे हैं। इस प्रकरण में कोई भी अधिकारी बोलने को तैयार नहीं है।
बड़ा सवाल यह है जब एक हफ्ते पहले इसी स्थान पर एक व्यक्ति बुरी तरह झुलस चुका है तो एसडीएम जानसठ या अन्य संबंधित अधिकारियों ने इस राखि या केमिकल का निस्तारण क्यों नहीं कराया इससे साफ जाहिर होता है कि प्रदूषण विभाग से लेकर तहसील जानसठ के कई कर्मचारी भी पेपर मिलो से सांठगांठ कर कर इस राखी को खुले में ही रहने की इजाजत दे चुके हैं। भोपा रोड पर चलने वाली कई बड़ी पेपर मिलो से यह काली राखी निकलती है जिसका जमावड़ा भोपा नहर के एक किनारे पर कर दिया जाता है या फिर इस क्षेत्र की तारबंदी क्यों नहीं कराई? आखिर प्रशासन क्यों इस मामले को गंभीरता से नहीं ले रहा, क्यों इस क्षेत्र के लोगों की जान की परवाह नहीं की जा रही?*फिलहाल एसडीएम जानसठ मौके पर पहुंच चुके हैं और जांच पड़ताल कर रहे हैं* जिले में भोपा रोड पर काली राखी के माफियाओं का व्यापार जोरों शोरों से फल फूल रहा है। माफियाओं का कहना है कि जानसठ तहसील से लेकर प्रदूषण विभाग तक के कई कर्मचारी उनके संपर्क में रहते हैं। जिन्हें लगातार उनकी तरफ से हफ्ता और महीना दिया जाता है जो उन्हें अधिकारी के आने से पूर्व ही सूचना कर देते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here