भाकियू की पंचायत में 21 प्रस्ताव पारित

0
241

हरिद्वार। हरिद्वार में भारतीय किसान यूनियन का तीन दिवसीय किसान महाकुंभ आज 18 जून शनिवार को संपन्न हुआ। इस महाकुंभ में किसानों की मांगों को लेकर 21 सूत्रीय प्रस्ताव पारित किए गए। इसमें एमएसपी गांरटी कानून बनाने और केंद्र सरकार द्वारा जारी गतिरोध को खत्म कर संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) से वार्ता करने, फ्री बिजली, बिजली मीटर वापसी, किसानों के मुकदमों की वापसी, बकाया गन्ना भुगतान कराने, छुट्टा पशुओं से निजात दिलाने, खेती को विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) से अलग रखने, पहाड़ी राज्यों के लिए अलग से हिल पॉलिसी बनाने समेत केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना का विरोध प्रमुख प्रस्ताव रहे।
किसान महाकुंभ में भाकियू द्वारा 30 जून को अग्निपथ योजना के विरोध में देशभर के जिला मुख्यालयों पर विरोध प्रदर्शन करने का निर्णय लिया गया। राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत ने नवनिर्वाचित पदाधिकारियों को बधाई देते हुए किसानों के हित में लड़ाई लड़ने का आह्वान किया।
समापन भाषण में उन्होंने किसानों आह्वान किया कि वे एकजुट कर अपनी लड़ाई को अंजाम दें। देश में विपक्ष नहीं बचा है सीधे किसानों को अपने हक की लड़ाई के लिए सड़क पर उतर कर अपनी मांग मनावने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। किसानों के लिए यह कठिन दौर है। केंद्र सरकार किसानों की अग्नि परीक्षा ना ले।
पंचायत को संबोधित करते हुए भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि अपने हकों के लिए किसान, मजदूर और नौजवान जाग उठा है। उनके हकों की अनदेखी करना सरकारों के लिए आसान नहीं होगा। हम नौजवानों के साथ हैं। उन्होंने केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना का विरोध करते हुए कहा कि पहले से ही गांव का युवा बेरोजगारी की मार झेल रहा है, दो साल से कोई भी नियुक्ति प्रक्रिया पूरी नहीं होने से निराश है, ऐसे में केंद्र सरकार ने उनके जख्मों पर मरहम लगाने की बजाय उन्हें कुरेदने का काम किया है। उन्होंने कहा कि भाकियू नौजवानों के साथ है और केंद्र सरकार को तत्काल युवाओं के आक्रोश को शांत करने की दिशा में पहल करनी चाहिए। टिकैत ने कहा कि इस योजना के विरोध में 30 जून को देशभर के जिला मुख्यालयों पर भाकियू के कार्यकर्ता विरोध प्रदर्शन करेंगे और राष्ट्रपति को संबोधित एक मांगपत्र सौंपेंगे। उन्होंने युवाओं से सरकारी संपत्ति को नुकसान नहीं पहुंचाने और शांतिपूर्ण आंदोलन करने की बात कही। पंचायत का संचालन उत्तराखंड के प्रदेश उपाध्यक्ष रवि कुमार और राष्ट्रीय सचिव ओमपाल मलिक ने किया।
किसान महाकुंभ में नवनिर्वाचित कार्यकारिणी में शनिवार को पवन खटाना को पश्चिमी उत्तर प्रदेश का अध्यक्ष, सुभाष चौधरी को दिल्ली मीडिया प्रभारी, अनूप चौधरी का पूर्वांचलन का अध्यक्ष, राजेंद्र सिंह को यूपी का उपाध्यक्ष, डॉ. नौ सिंह को राष्ट्रीय सचिव, गजेंद्र परिहार को मध्य प्रदेश का प्रभारी, अनिल यादव को मध्यप्रदेश का अध्यक्ष और बबली त्यागी को पश्चिमी यूपी का महिला अध्यक्ष बनाया गया है।

युवाओं के समर्थन में काली पट्टी बांधकर किया प्रदर्शन किया। चौधरी राकेश टिकैत के नेतृत्व में किसानों ने लाल कोठी से टिकैत घाट तक पैदल मार्च किया। इस दौरान जिला प्रशासन के हाथ पैर फूले रहे। किसानों के हाईवे पर आते ही ट्रैफिक को रोक दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here