पुलिस को ही सब करना है तो कानून की क्या जरूरत है : प्रमोद त्यागी

0
61

मुजफ्फरनगर ।सपा जिलाध्यक्ष प्रमोद त्यागी एडवोकेट ने दंगाइयों पर पुलिस व बुलडोजर कार्रवाई को लेकर देश के वर्तमान हालात पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि आज हमारे देश मे हो क्या रहा है। हमारा संविधान पंथ निरपेक्ष है। हर धर्म के मानने वाले को अपने तरीके से पूजा, इबादत करने का अधिकार प्राप्त है । ऐसे मे किसी का दूसरे धर्म या उस धर्म के प्रवर्तक पर टिप्पणी करना गलत है ,अस्वीकार्य है । पर उस पर प्रतिक्रिया भी मर्यादित होनी चाहिए। कानून सम्मत होनी चाहिए । कानून अपने हाथ में लेना गलत है।
लेकिन इसके बाद सरकार का कानून को न मानना तो बहुत ही खतरनाक है। पुलिस को सब अधिकार दे देना कौन हिंसक है या नहीं ये भी पुलिस तय करेगी बिना किसी जांच के किसी के मकान पर बुलडोजर चलाना कहाँ का न्याय है, फिर न्यायपालिका की क्या आवश्यकता है
क्रिमिनल प्रोसीजर कोड की क्या आवश्यकता है।
हो सकता है ये आज कुछ लोगों को अच्छा लग रहा हो पर पुलिस की ये निरंकुशता यदि कल उनके खुद के विरुद्ध प्रयोग हुई तब कैसा लगेगा। गलत हमेशा गलत होता है।
(1) किसी के धर्म को अपमानित करना भी गलत
(2)उस पर हिंसक प्रतिक्रिया भी गलत ।
(3)सरकार द्वारा उसका
गैरकानूनी तरीके से दमन सबसे गलत ।
यदि हमे अपने भारत मे जनतंत्र को बचाना है, भाइचारे को जिंदा रखना है, तो इस बारे में विचार कीजिए और आप जहां भी हैं वहीं से अपने कर्त्तव्य का पालन कीजिए। इसकी आज देश को सबसे ज्यादा आवश्यकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here