कोटद्वार के कण्व आश्रम में पहुंचा मुज़फ्फरनगर का शैलाब नरेश टिकैत व सत्यप्रकाश रेशू भी रहे उपस्थित

0
36

कोटद्वार। कण्व आश्रम में मुज़फ्फरनगर से बहुत बड़ी संख्या में स्वामी जयंत सरस्वती के सन्यासी बनने पर लोग पहुंचे। देश विदेश के कोने-कोने से कण्व आश्रम में ब्रह्मचारी विश्वपाल जयंत के संत बनने पर बड़ी संख्या में सैलाब पहुंचा। कण्व आश्रम वह स्थान है जहां भारत का नाम ‘’ भारत ’’ रखा गया।
ब्रह्मचारी विश्वपाल जयंत से स्वामी जयंत सरस्वती बनाने के लिए विधिवत यज्ञहवन, मंत्रोच्चारण आदि का आयोजन किया गया। छात्र छात्राओं ने विश्वस्तरीय अत्याधुनिक संगीत में योगक्रियाओं का विश्वस्तरीय प्रदर्शन किया। ब्रह्मचारी से सन्यासी बने जयंत सरस्वती मुजफ्फरनगर के सौरम गांव से संबंध रखते हैं। जिन्होंने कण्व आश्रम का जीर्णोद्धार करने में विशेष भूमिका निभाई। जिसे अब प्रचार-प्रसार देने का काम सत्यप्रकाश रेशू कर रहें हैं।
स्वामी जयंत सरस्वती को संत जीवन में प्रवेश कराने के अवसर पर परमार्थ निकेतन के महंत चिदानंद महाराज, कर्नल कोटियाल, भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत, विचारक एवं समाजसेवी सत्यप्रकाश रेशू आदि की विशेष भूमिका रही। इस अवसर पर सभी ने हाथ में हाथ ऊपर करके कण्व आश्रम को पूरे विश्व में नई पहचान दिलाने का संकल्प लिया। कण्व आश्रम में हजारों की संख्या में पहुंचने वालो में संत समाज, सांसद, विधायक, मंत्री, उद्योगपति, किसान, योगाचार्य, महिलाएं, बच्चे, कवि, लेखक, पत्रकार आदि उपस्थित रहे। कोटद्वार का कण्व आश्रम क्षेत्र मुज़फ्फरनगर वासियों की सेवाओं के कारण पहले के मुकाबले अब बड़ी तरक्की कर चुका है। सत्यप्रकाश रेशू के प्रचार-प्रसार के कारण कण्व आश्रम में जहां प्रतिदिन आने जाने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है वहीं सहयोग करने वालों का योगदान बढ़ने लगा है। जिस कारण परमार्थ निकेतन ऋषिकेश ने भी कण्व आश्रम के चंहुमुंखी विकास की जिम्मेदारी अपने ऊपर ले ली है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here